जिस घर के पास भी होते है ये 2 पौधे उस घर के दरवाजे से ही वापस लोट जाती है माँ लक्ष्मी

0
2110
loading...

घर में कोई बार.बार बीमार पड़ या कुछ शुभ कार्य नही हो रहें । तो एक बार अपने बगीचें में नजर डाल लें। कहते है घर में ऐसे पौधे नही लगाने चाहिए जिससे आपकी किस्तम में ग्रहण लग जाए और घर में नरात्मक उर्जा प्रवेश कर जाए। इसलिए एक बार देख लें कहीं आप के घर में इन पौधों में से कोई एक पौधा लगा हुआ है तो आज ही इसे घर से बाहर कर दीजिए।

बेडलक प्लांट्स

सामान्य तौर पर लोग घर में तुलसी और मनीप्लांट का पौधा घर में रखते हैं। क्योंकि वास्तुशास्त्र के अनुसार ये घर में समृद्धि और गुडलक लाते हैं। लेकिन कुछ ऐसे प्लांट भी हैं जो घर में कलह और बदकिस्मती का कारण बनते हैं। क्योंकि वैदिक साइंस और फेंगशुई के अनुसार ये घर में नकरात्मक ऊर्जा लाते हैं। तो आइए इस स्लाइडशो में इन पौधों के बारे में विस्तार से जानें और घर में इन पौधों को ना लाएं।

बोनसाई का पौधा

कभी भी घर में बोनसाई पौधा न तो लगाना चाहिए और ना ही किसी को गिफ्ट करना चाहिए। बोनसाई पौधों का कद बहुत ही छोटा होता है जिस कारण माना जाता है कि ये घर के स्टैंडर्ड का कद बड़ा नहीं होने देते। इसको घर पर लगाने से घर का आर्थिक विकास रुक जाता है और उनके आगे बढ़ने की स्थिति भी छोटी ही रह जाती है।

कैक्टस

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में कभी भी कांटे वाले पौधे नहीं लगाने चाहिए। साथ ही उन पौधों को भी कभी नहीं लगाना चाहिए जिसको काटने व उनको छिलने के बाद उनमें से दूध निकलता है। ऐसे पौधे घर में नकारात्मक उर्जा पौदा करते हैं। इसके अलावा अगर तर्कों के आधार पर देखा जाए तो कांटे वाले पौधे घर पर रखने से किसी को उन कांटों से चोट लगने का भी डर होता है। इसलिए घर में विशेष तौर पर कैक्टस का पौधा लगाने से मना किया जाता है।

कहा जाता है कि इमली के पेड़ में भूत रहता है इसलिए घर में इसे नहीं लगाना चाहिए। लेकिन इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है। दरअसल इमली के पेड़.पत्तों में अम्ल की मात्रा काफी अधिक होती है जिसके कारण इमली के पेड़ के आस.पास के वातावरण में अम्‍लीयता काफी अधि‍क हो जाती है जो स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव डालती है।

डेड प्लांट्स

घर में कभी भी डेड प्लांट्स नहीं लगाने चाहिए। यहां तक की मरे हुए फूल भी घर पर नहीं रखने चाहिए। क्योंकि वास्तुशास्त्र के अनुसार इससे घर में नकरात्मक ऊर्जा पैदा होती है। दरअसल डेड प्लांट्स ऑक्सीजन छोड़ने की जगह ऑक्सीजन लेते हैं और बदले में कार्बनडाई ऑक्साइड छोड़ते हैं। ऐसे में घर में ऑक्सीजन का स्तर कम हो जाता है।