बहुत बड़ा फ़र्ज़ीवाडा आया सामने, सब कुछ था फ़र्ज़ी, क्या होगी गिरफ़्तारी?

हिंदी सिनेमा के मशहूर अभिनेता सोनू सूद का नाम 20 करोड़ रूपये से अधिक की टैक्स चोरी में सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है. उनका नाम सामने आने के बाद इस मामले में और भी कई तरह-तरह के ख़ुलासे हो रहे हैं. बताया जा रहा है कि आयकर विभाग द्वारा सोनू निगम के कई ठिकानों पर छापेमारी की गई और इसमें विभाग को बड़ी सफलता भी मिली है.

बताया जा रहा है कि कई कंपनियां तो छापेमारी में ऐसी निकलकर आई है जिन्होंने अपने चपरासियों को बोगस कंपनियों का डायरेक्टर बना रखा था. इस बड़ी धांधली ने हर किसी के होश उड़ा दिए हैं. कानपुर में फर्जी इनवॉइस जारी करने वाली कंपनी रिच ग्रुप और रिच उद्योग के मालिकों द्वारा यह कारनामा किया है. बता दें कि बीते कुछ दिनों से आयकर विभाग की संयुक्त टीमों के छापों के बाद अब एक और बड़ा खुलासा हुआ है.

एक के बाद एक बड़े ख़ुलासे होने के चलते आयकर विभाग और सतर्क एवं चौकन्ना हो गया है. साथ ही विभाग ने जांच का दायरा बढ़ा दिया है. अब और भी कई ठिकानों पर छापेमारी होनी है. वहीं दूसरी ओर सूत्र बता रहे हैं कि सोनू सूद द्वारा लखनऊ के इन्फ्रास्ट्रक्चर समूह में निवेश के लिए भी रिच समूह की मदद से फर्जी बिल जारी किए गए है. ऐसे में आयकर विभाग अब जांच में कोई ढील नहीं चाहता है और आगे भी कई ठिकानों पर छापेमारी जारी रहेगी.

लखनऊ के इन्फ्रास्ट्रक्चर समूह में सोनू का निवेश…

जानकारी के मुताबिक़, लखनऊ के इन्फ्रास्ट्रक्चर समूह में सोनू ने संयुक्त उद्यम अचल संपत्ति परियोजना में निवेश कर रखा है. हैरानी की बात यह है कि 48 वर्षीय अभिनेता द्वारा निवेश कर चोरी और बिलिंग में गड़बड़ी करके किया गया है. इस समूह का नाम भी फर्जी बिलिंग में शामिल है. ऐसे में सोनू की छवि को बड़ा झटका लगा है. आयकर विभाग को जांच में 65 करोड़ की फर्जी बिलिंग के साक्ष्य मिले हैं.

कई जगह छापेमारी, करोड़ों का फ़र्जीवाड़ा आया सामने…

विभाग को जयपुर स्थित कंपनी में 175 करोड़ के लेनदेन की जानकारी मिली. इसमें 1.8 करोड़ रुपये नकद मिले. IT ने 11 लॉकर जब्त कर लिए हैं और फिलहाल आयकर विभाग इस काम में आगे बढ़ रहा है. जांच जारी है और उम्मीद है कि आगे भी कई बड़े ख़ुलासे हो सकते हैं.

 

28 परिसर की जांच, सीबीडीटी की प्रवक्ता ने दी जानकारी…

विभाग द्वारा मुंबई में सोनू सूद और इन्फ्रास्ट्रक्चर कारोबार में लगे लखनऊ के समूह के मुंबई, लखनऊ, कानपुर, जयपुर, दिल्ली और गुरुग्राम स्थित 28 परिसरों की जांच की गई है. यह जानकारी सीबीडीटी की प्रवक्ता सौरभी अहलूवालिया ने दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com